कहानीयॉं

कहानी घर घर की : रचना

कमरे में प्रवेश करते ही राजेश ने देखा कि सीमा अपने मोबाइल पर जुटी हुई है और झल्लाते हुए बोला “जब भी मैं कमरे में आता हूं तुम अपने मोबाइल सें चिपकी रहती हो ,क्या […] Read More

सरिता का झूठ का व्यापार

क्या होती है रीति रिवाज,नहीं मालूम था उस दस साल की बच्ची कमला को । उसका संसार एक छोटी सी कुटिया नुमा घर ,एक शराबी पिता -जो आये दिन मार पीट करता ,एक माँ जो […] Read More

रिश्तों का सच -: मीनाक्षी

बचपन से ही प्रायः माँ ने जैसे घुटी सी पिला दी थी मीना को की अपनों से बड़ों का सदा ही सम्मान करना चाहिये, उनकी कोई बात अच्छी न भी लगे तो चुप रहते हैं […] Read More

रिश्तो का सच –; सोनपरी

आज काकी बड़ी खुश थी वो घर का कोना कोना सजाने में जुटी हुई थी आखिर जिस बेटे को पाल पोसकर बड़ा किया अच्छी शिक्षा के लिए विदेश भेजा वो अपनी पत्नी के साथ घर […] Read More

मीना छाबड़ा की उलझन

ले सुगंधा … तेरे धर्मभाई वीरेंद्र की चिट्ठी । दूर के रिश्ते की एक बहन ने एक लिफ़ाफ़ा सुगंधा के हाथ में रखते हुए कहा … मेरे लिए ?? सुगंधा थोड़ा हैरान होते हुए बोली […] Read More