साहित्‍यकारों की दुनिया पर यह है परिचर्चा लेखन का विषय- विजेता को मिलेगा पुरस्‍कार

अखंड गहमरी।। साहित्‍यकारों की दुनिया पर दिनॉंक 03 जनवरी से 14 जनवरी तक के परिचर्चा का विषय है

” आखिर क्‍यों सताई जाती हैं गरीब घर की लड़कियॉं ससुराल में” जब वो हो जाती है विधवा।

इस विषय पर कारण, निवारण और सलाह के साथ आप अपने लेख 700 अक्षरों में 2 जनवरी तक sahityakaronkiduniya@gmail.com पर भेज सकते है, लेख 3 जनवरी की शाम को प्रकाशित होगा और विजेता की घोषणा 15 जनवरी को किया जायेगा। तीन सर्वश्रेष्‍ठ लेखो का प्रकाशन होगा तथा प्रमाण पत्र दिये जायेगें। सर्वश्रेष्‍ठ लेखक को सम्‍मानित भ्‍ाी किया जायेगा। लेख आपके मौलिक होने चाहिए।

4 thoughts on “साहित्‍यकारों की दुनिया पर यह है परिचर्चा लेखन का विषय- विजेता को मिलेगा पुरस्‍कार”

  1. सुधीर सिंह सुधाकर कहते हैं:

    बढ़िया प्रयास

  2. गुलाब चंद पटेल कहते हैं:

    अच्छा प्रयास हे, गरीब लिए हमेशा समाज में मुसकेलिया का सामना करना पड़ता है. सामाजिक यातना ज्यादा मिलती है, यही सच्चाई है. समाजकी यही तासीर हे.
    गुलाब चंद पटेल
    कवि लेखक अनुवादक और
    नशा मुक्ति अभियान प्रणेता गुजरात गांधीनगर Mo 09904480753

  3. रीता जयहिंद अरोड़ा कहते हैं:

    अच्छा कार्य है साहित्यकारों को अपने लेख से लोगों तक पहुँचाना समाज को जाग्रत करना है कि लड़कियों की पढ़ाई पर भी उतना ही ध्यान दे जितना आप बेटों पर देते है तथा साहित्यकार को लिखने के लिए प्रेरित करना प्रशंसनीय।धन्यवाद जी । कार्य है ।

  4. रीता जयहिंद अरोड़ा कहते हैं:

    अच्छा कार्य है साहित्यकारों को अपने लेख से लोगों तक पहुँचाना समाज को जाग्रत करना है कि लड़कियों की पढ़ाई पर भी उतना ही ध्यान दे जितना आप बेटों पर देते है तथा साहित्यकार को लिखने के लिए प्रेरित करना प्रशंसनीय कार्य है ।धन्यवाद जी ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: