अ0 जननी हरियाली दिवस के रूप में मनेगी 02 अप्रैल को पुण्‍य तिथि

गाजीपुर। मानव जीवन के आधारो में दो मुख्‍य आधार जननी और पर्यावरण होते हैं, इनके बिना जीवन की कल्‍पना ही बेमानी है, इस लिए साहित्‍य सरोज पत्रिका ने पत्रिका की संस्‍थापिका श्रीमती सरोज सिंह की पुण्‍य तिथि को जननी और प्रर्यावरण से जोड़ते हुए पत्रिका ने ”अन्‍तराष्‍ट्रीय जननी हरियाली दिवस” के रूप में पुण्‍य तिथि मनाने का विचार किया है। इस दिवस पर पुत्र-पुत्रीयों द्वारा अपने जननी की स्‍मृति में या उनको समर्पित करते हुए वह चाहे जहॉं हो एक वृक्ष लगाने का आग्रह करते हुए उनके पुण्‍य तिथि 02 एवं 03 अप्रैल 2018 को होने वाले कार्यक्रम की रूप रेखा प्रस्‍तुत किया । (1) 2 अप्रैल 2018 को प्रात: 7 से 8 बजे नरवा घाट गहमर एवं मॉं कामाख्‍या धाम मंदिर प्रागण से अन्‍तराष्‍ट्रीय जननी हरियाली दिवस का शुभारंभ। (2) 9 बजे गहमर स्थित उनके आवास परउनकी प्रतिमा का लोकापर्ण एवं व़क्षारोपण । (3) दोपहर 1 बजे से 5 बजे तक गाजीपुर जिला मुख्‍यालय पर युगल जोड़ो द्वारा कहानी/ गीत/ नृत्‍य की प्रस्‍तुति । शाम 7 बजे से रात्रि 8 बजे तक जिला मुख्‍यालय गाजीपुर में (4) 5 युगल जोड़ो का सम्‍मान किया जायेगा जो पति-पत्‍नी दोनो मिल कर हिन्‍दी साहित्‍य एवं समाज सेवा के क्षेत्र में विकास का कार्य कर रहे है। (5) हस्‍त लिखित साझा काव्‍य संकलन ” लगती अधूँरी है जिन्‍द़गी” एवं उनकी यादों पर आधारित एक पुस्‍तक कहॉं गये तुम का लोकापर्ण ।(6) साहित्‍य सरोज पत्रिका के 2 हजार पाठक सदस्‍य बनाने के लक्ष्‍य पर कार्यक्रम एवं साहित्‍यकार डायरेक्‍ट्री का लोकापर्ण। (7) रात 9 बजे से जिला मुख्‍यालय गाजीपुर में कवि सम्‍मेलन। 03 अप्रैल 2018 को जिला मुख्‍यालय गाजीपुर में (1) प्रात: 9 बजे से 02 बजे तक लोक संस्‍कृति पर शोध पत्र का प्रकाशन/ वाचन (2) बच्‍चों द्वारा रंगोली, चित्रकला, मेंहदी, निवंन्‍ध लेखन प्रतियोगिता। (3) शाम 3 बजे से 5 बजे तक वन्दे मातृ शक्ति वंदे मातृ भूमि पर परिचर्चा। (4) रात्रि 7 बजे से अन्‍तराष्‍ट्रीय महिला दिवस पर सम्‍मानित महिलाओं का सम्‍मान (5) महिला कवित्रियों एवं नवाकुंराेका काव्‍यपाठ, साहित्‍य सरोज यात्रा की शुरूआत एवं समापन। अधिक जानकारी के लिए संम्‍पर्क करें आयोजक डा0 अखंड प्रताप सिंह ऊर्फ अखंड गहमरी गहमर गाजीपुर 9451647845

4 thoughts on “अ0 जननी हरियाली दिवस के रूप में मनेगी 02 अप्रैल को पुण्‍य तिथि”

  1. ज्योति मिश्रा कहते हैं:

    बेहद खूबसूरत प्रयास, ईश्वर आपको इस प्रयास में 100% सफलता प्रदान करें। मैं सदैव आपके साथ हूँ

  2. आरती सिंह एकता कहते हैं:

    जननी और पर्यावरण दोनों ही समृद्धि के धरोहर है बहुत बढिया कार्य आदरणीय अखंड जी। अग्रिम शुभकामनाएँ।

  3. आर बी शर्मा हरदोई उ0प्र0 कहते हैं:

    अभिनव आयोजन के लिए आपका कोटिशः नमन।आज जबकि साहित्य के क्षेत्र में भी कलुषता का वातावरण सृजित हो रहा है आपका कार्य निःसंदेह श्लाघ्य है।मुझे पूर्ण विश्वास है जब तक आप जैसे ऋषि-सोच वाले व्यक्तित्व इस क्षेत्र में सक्रिय हैं समाज़ और हिन्दी साहित्य का गौरव ऊंचाइयां प्राप्त करता रहेगा।

  4. रीता जयहिंद अरोड़ा कहते हैं:

    आयोजन की अग्रिम बधाई एवं सफल आयोजन की अग्रिम शुभकामनाएँ व अभिनंदन

Leave a Reply

%d bloggers like this: