आ गया फाग – मुकेश

आ गया फाग |
छिड़ गया राग ||

गोरी की बदली चाल |
जब हुए गाल लाल ||

उढ़ गयी चदरिया |
बेरिन बीच बजरिया ||

जो गिर गया गुलाल |
अंग-अंग हुआ बेहाल ||

छेड़ रही बंसती तान |
भंग में फसी जान ||

आ गया फाग |
छिड़ गया राग ||

बच्चा – बूढे़ हुए जवान |
खड़े भर पिचकारी तान ||

हो गये रंग-बिरंगे |
तन-मन सब चंगे ||

होली खेलो मन से |
लालच छोड़ो तन से ||

मर्यादा न छोड़ना |
बेर-भाव सब भूलना ||

– मुकेश कुमार ऋषि वर्मा
ग्राम रिहावली, डाक तारौली गुर्जर,
फतेहाबाद, आगरा, 283111

Leave a Reply

%d bloggers like this: