होली के हाइकु-आशा जाकड़

होली के रंग
लाये नयी उमंग
खुशी के संग

रंगों की होली
अक्षत अरु रोली
मस्ती की टोली

गुलाबी, पीला
जीवन हो रंगीला
हो.चमकीला

आओ झूम लें
रंगों के पर्व में
खुशी ढूंढ लें

गेहूँ की बालें
फागुन की फुहारें
दुख मिटा लें

मन उदास
दहकते पलाश
न कोई आस

रंग -उमंग
होली के सतरंग
आशा के संग

आई रे होली
लाई रे मीठी बोली
मित्रों की टोली

रंग- पर्व
खुशियों से भर लो
हमें गर्व

रंगीली होली
मीठे भावों की होली
खुशियाँ घोली

रंग डालो रे
नये रिश्ते घोलो
होली खेलो रे

डालें गुलाल
सूखे रंगों से खेलें
करें धमाल

रंग बहार
सपने हों साकार
खुशी अपार

होली के फाग
गायें हम सुहाग
आओ सुनाएँ

रंग मिटाएँ
नफरत-दीवार
प्रेम सिखाये

आशा जाकड़
9754969496

Leave a Reply

%d bloggers like this: