परिचर्चा: क्या कर सकते हैं आप? पर बोले साहित्‍यकार।

परिचर्चा। प्रस्‍तुत हैं क्‍या कर सकते हैं आप एक भूख से तड़पती असहाय महिला के लिए पर डा0 राजकुमारी वर्मा, श्री कवि राजेश पुरोहित, श्रीमती ममता देवी, श्री रमेश कुमार सिंह रूद्र, श्रीमती रीता जयहिंद, श्रीमती ज्‍योति मिश्रा, श्रीमती दीपा संजय दीप एवं श्रीमती सुमन त्रिवेदी के विचार। आप सब इस प‍रिचर्चा को पढ़ कर अपने विचार जरूर लिखें।

परिचर्चा: क्या कर सकते हैं आप?डॉ राजकुमारी वर्मा

परिचर्चा: क्या कर सकते हैं आप? कवि राजेश पुरोहित

परिचर्चा: क्या कर सकते हैं आप? ममता देवी

परिचर्चा: क्या कर सकते हैं आप? रमेश कुमार सिंह ‘रुद्र’

परिचर्चा: क्या कर सकते हैं आप? रीता जयहिंद हाथरसी

परिचर्चा: क्या कर सकते हैं आप? ज्‍योति मिश्रा

परिचर्चा: क्या कर सकते हैं आप?दीपा संजय”*दीप

परिचर्चा: क्या कर सकते हैं आप? सुमन त्रिवेदी

आप सब से निवेदन है कि इस लेख को अधिक से अधिक प्रसारित करें जिससे लेखको के विचार जन जन तक पहुँच सकें, साथ्‍ा ही अधिक से अधिक लेखक इस परिचर्चा से जुड़ सकें।

1 thought on “परिचर्चा: क्या कर सकते हैं आप? पर बोले साहित्‍यकार।”

Leave a Reply

%d bloggers like this: